Skip to main content

अल बकराह आयत २३३ | Al-Baqrah 2:233

And the mothers
وَٱلْوَٰلِدَٰتُ
और माँऐं
shall suckle
يُرْضِعْنَ
दूध पिलाऐं
their children
أَوْلَٰدَهُنَّ
अपनी औलाद को
(for) two years
حَوْلَيْنِ
दो साल
complete
كَامِلَيْنِۖ
मुकम्मल
for whoever
لِمَنْ
उसके लिए जो
wishes
أَرَادَ
इरादा करे
to
أَن
कि
complete
يُتِمَّ
वो पूरा करे
the suckling
ٱلرَّضَاعَةَۚ
रज़ाअत की मुद्दत
And upon
وَعَلَى
और ऊपर
the father
ٱلْمَوْلُودِ
उस (वालिद) के बच्चा है जिसका
(on) him
لَهُۥ
उस (वालिद) के बच्चा है जिसका
(is) their provision
رِزْقُهُنَّ
ख़ुराक है उन औरतों की
and their clothing
وَكِسْوَتُهُنَّ
और लिबास है उन औरतों का
in a fair manner
بِٱلْمَعْرُوفِۚ
भले तरीक़े से
Not
لَا
ना तकलीफ़ दिया जाए
is burdened
تُكَلَّفُ
ना तकलीफ़ दिया जाए
any soul
نَفْسٌ
कोई नफ़्स
except
إِلَّا
मगर
its capacity
وُسْعَهَاۚ
उसकी वुसअत के मुताबिक़
Not
لَا
ना नुक़सान पहुँचाया जाए
made to suffer
تُضَآرَّ
ना नुक़सान पहुँचाया जाए
(the) mother
وَٰلِدَةٌۢ
वालिदा को
because of her child
بِوَلَدِهَا
उसके बच्चे की वजह से
and not
وَلَا
और ना
(the) father
مَوْلُودٌ
वालिद को
(be)
لَّهُۥ
वालिद को
because of his child
بِوَلَدِهِۦۚ
उसके बच्चे की वजह से
And on
وَعَلَى
और ऊपर
the heirs
ٱلْوَارِثِ
वारिस के है
(is a duty) like
مِثْلُ
मिसल
that
ذَٰلِكَۗ
उसी के
Then if
فَإِنْ
फिर अगर
they both desire
أَرَادَا
वो दोनों इरादा कर लें
weaning
فِصَالًا
दूध छुड़ाने का
through
عَن
बाहम रज़ामंदी से
mutual consent
تَرَاضٍ
बाहम रज़ामंदी से
of both of them
مِّنْهُمَا
उन दोनों की
and consultation
وَتَشَاوُرٍ
और बाहम मशवरे से
then no
فَلَا
तो नहीं
blame
جُنَاحَ
कोई गुनाह
on both of them
عَلَيْهِمَاۗ
उन दोनों पर
And if
وَإِنْ
और अगर
you want
أَرَدتُّمْ
इरादा करो तुम
to
أَن
कि
ask another women to suckle
تَسْتَرْضِعُوٓا۟
तुम दूध पिलवाओ
your child
أَوْلَٰدَكُمْ
अपनी औलाद को
then (there is) no
فَلَا
तो नहीं
blame
جُنَاحَ
कोई गुनाह
on you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
when
إِذَا
जब
you pay
سَلَّمْتُم
सुपुर्द कर दो तुम
what
مَّآ
जो
(is) due (from) you
ءَاتَيْتُم
देना था तुमने
in a fair manner
بِٱلْمَعْرُوفِۗ
मारूफ़ तरीक़े से
And fear
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह से
and know
وَٱعْلَمُوٓا۟
और जान लो
that
أَنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
of what
بِمَا
उसे जो
you do
تَعْمَلُونَ
तुम करते हो
(is) All-Seer
بَصِيرٌ
ख़ूब देखने वाला है

Waalwalidatu yurdi'na awladahunna hawlayni kamilayni liman arada an yutimma alrrada'ata wa'ala almawloodi lahu rizquhunna wakiswatuhunna bialma'roofi la tukallafu nafsun illa wus'aha la tudarra walidatun biwaladiha wala mawloodun lahu biwaladihi wa'ala alwarithi mithlu thalika fain arada fisalan 'an taradin minhuma watashawurin fala junaha 'alayhima wain aradtum an tastardi'oo awladakum fala junaha 'alaykum itha sallamtum ma ataytum bialma'roofi waittaqoo Allaha wai'lamoo anna Allaha bima ta'maloona baseerun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जो कोई पूरी अवधि तक (बच्चे को) दूध पिलवाना चाहे, तो माएँ अपने बच्चों को पूरे दो वर्ष तक दूध पिलाएँ। और वह जिसका बच्चा है, सामान्य नियम के अनुसार उनके खाने और उनके कपड़े का ज़िम्मेदार है। किसी पर बस उसकी अपनी समाई भर ही ज़िम्मेदारी है, न तो कोई माँ अपने बच्चे के कारण (बच्चे के बाप को) नुक़सान पहुँचाए और न बाप अपने बच्चे के कारण (बच्चे की माँ को) नुक़सान पहुँचाए। और इसी प्रकार की ज़िम्मेदारी उसके वारिस पर भी आती है। फिर यदि दोनों पारस्परिक स्वेच्छा और परामर्श से दूध छुड़ाना चाहें तो उनपर कोई गुनाह नहीं। और यदि तुम अपनी संतान को किसी अन्य स्त्री से दूध पिलवाना चाहो तो इसमें भी तुम पर कोई गुनाह नहीं, जबकि तुमने जो कुछ बदले में देने का वादा किया हो, सामान्य नियम के अनुसार उसे चुका दो। और अल्लाह का डर रखो और भली-भाँति जान लो कि जो कुछ तुम करते हो, अल्लाह उसे देख रहा है

English Sahih:

Mothers may nurse [i.e., breastfeed] their children two complete years for whoever wishes to complete the nursing [period]. Upon the father is their [i.e., the mothers'] provision and their clothing according to what is acceptable. No person is charged with more than his capacity. No mother should be harmed through her child, and no father through his child. And upon the [father's] heir is [a duty] like that [of the father]. And if they both desire weaning through mutual consent from both of them and consultation, there is no blame upon either of them. And if you wish to have your children nursed by a substitute, there is no blame upon you as long as you give payment according to what is acceptable. And fear Allah and know that Allah is Seeing of what you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (तलाक़ देने के बाद) जो शख्स अपनी औलाद को पूरी मुद्दत तक दूध पिलवाना चाहे तो उसकी ख़ातिर से माएँ अपनी औलाद को पूरे दो बरस दूध पिलाएँ और जिसका वह लड़का है (बाप) उस पर माओं का खाना कपड़ा दस्तूर के मुताबिक़ लाज़िम है किसी शख्स को ज़हमत नहीं दी जाती मगर उसकी गुन्जाइश भर न माँ का उस के बच्चे की वजह से नुक़सान गवारा किया जाए और न जिस का लड़का है (बाप) उसका (बल्कि दस्तूर के मुताबिक़ दिया जाए) और अगर बाप न हो तो दूध पिलाने का हक़ उसी तरह वारिस पर लाज़िम है फिर अगर दो बरस के क़ब्ल माँ बाप दोनों अपनी मरज़ी और मशवरे से दूध बढ़ाई करना चाहें तो उन दोनों पर कोई गुनाह नहीं और अगर तुम अपनी औलाद को (किसी अन्ना से) दूध पिलवाना चाहो तो उस में भी तुम पर कुछ गुनाह नहीं है बशर्ते कि जो तुमने दस्तूर के मुताबिक़ मुक़र्रर किया है उन के हवाले कर दो और ख़ुदा से डरते रहो और जान रखो कि जो कुछ तुम करते हो ख़ुदा ज़रुर देखता है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मातायें अपने बच्चों को पूरे दो वर्ष दूध पिलायें और पिता को नियमानुसार उन्हें खाना-कपड़ा देना है, किसी पर उसकी सकत से अधिक भार नहीं डाला जायेगा; न माता को उसके बच्चे के कारण हानि पहुँचाई जाये और न पिता को उसके बच्चे के कारण। और इसी प्रकार उस (पिता) के वारिस (उत्तराधिकारी) पर (खाना कपड़ा देने का) भार है। फिर यदि दोनों आपस की सहमति तथा प्रामर्श से (दो वर्ष से पहले) दूध छुड़ाना चाहें, तो दोनों पर कोई दोष नहीं और यदि (तुम्हारा विचार किसी अन्य स्त्री से) दूध पिलवाने का हो, तो इसमें भी तुमपर कोई दोष नहीं, जबकि जो कुछ नियमानुसार उसे देना है, उसे चुका दो तथा अल्लाह से डरते रहो और जान लो कि तुम जो कुछ करते हो, उसे अल्लाह देख रहा[1] है।