Skip to main content

अद-दुखान आयत १२ | Ad-Dukhan 44:12

"Our Lord!
رَّبَّنَا
ऐ हमारे रब
Remove
ٱكْشِفْ
हटा दे
from us
عَنَّا
हम से
the punishment;
ٱلْعَذَابَ
अज़ाब को
indeed we
إِنَّا
बेशक हम
(are) believers"
مُؤْمِنُونَ
ईमान लाने वाले हैं

Rabbana ikshif 'anna al'athaba inna muminoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वे कहेंगे, 'ऐ हमारे रब! हमपर से यातना हटा दे। हम ईमान लाते है।'

English Sahih:

[They will say], "Our Lord, remove from us the torment; indeed, we are believers."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

कुफ्फ़ार भी घबराकर कहेंगे कि परवरदिगार हमसे अज़ाब को दूर दफ़ा कर दे हम भी ईमान लाते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(वे कहेंगेः) हमारे पालनहार! हमसे यातना दूर कर दे। निश्चय हम ईमान लाने वाले हैं।