Skip to main content

अल-माइदा आयत २३ | Al-Maidah 5:23

Said
قَالَ
कहा
two men
رَجُلَانِ
दो आदमियों ने
from
مِنَ
उसमें से जो
those who
ٱلَّذِينَ
उसमें से जो
feared (Allah)
يَخَافُونَ
डरते थे
(had) favored
أَنْعَمَ
इनाम किया था
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
[on] both of them
عَلَيْهِمَا
उन दोनों पर
"Enter
ٱدْخُلُوا۟
दाख़िल हो जाओ
upon them
عَلَيْهِمُ
उन पर
(through) the gate
ٱلْبَابَ
दरवाज़े से
then when
فَإِذَا
फिर जब
you have entered it
دَخَلْتُمُوهُ
तुम दाख़िल हो जाओगे उसमें
then indeed, you (will be)
فَإِنَّكُمْ
तो बेशक तुम
victorious
غَٰلِبُونَۚ
ग़ालिब आने वाले हो
And upon
وَعَلَى
और अल्लाह ही पर
Allah
ٱللَّهِ
और अल्लाह ही पर
then put your trust
فَتَوَكَّلُوٓا۟
पस तुम तवक्कल करो
if
إِن
अगर
you are
كُنتُم
हो तुम
believers
مُّؤْمِنِينَ
ईमान लाने वाले

Qala rajulani mina allatheena yakhafoona an'ama Allahu 'alayhima odkhuloo 'alayhimu albaba faitha dakhaltumoohu fainnakum ghaliboona wa'ala Allahi fatawakkaloo in kuntum mumineena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उन डरनेवालों में से ही दो व्यक्ति ऐसे भी थे जिनपर अल्लाह का अनुग्रह था। उन्होंने कहा, 'उन लोगों के मुक़ाबले में दरवाज़े से प्रविष्ट हो जाओ। जब तुम उसमें प्रविष्टि हो जाओगे, तो तुम ही प्रभावी होगे। अल्लाह पर भरोसा रखो, यदि तुम ईमानवाले हो।'

English Sahih:

Said two men from those who feared [to disobey] upon whom Allah had bestowed favor, "Enter upon them through the gate, for when you have entered it, you will be predominant. And upon Allah rely, if you should be believers."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(मगर) वह आदमी (यूशा कालिब) जो ख़ुदा का ख़ौफ़ रखते थे और जिनपर ख़ुदा ने ख़ास अपना फ़ज़ल (करम) किया था बेधड़क बोल उठे कि (अरे) उनपर हमला करके (बैतुल मुक़दस के फाटक में तो घुस पड़ो फिर देखो तो यह ऐसे बोदे हैं कि) इधर तुम फाटक में घुसे और (ये सब भाग खड़े हुए और) तुम्हारी जीत हो गयी और अगर सच्चे ईमानदार हो तो ख़ुदा ही पर भरोसा रखो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उनमें से दो व्यक्तियों ने, जो (अल्लाह से) डरते थे, जिनपर अल्लाह ने पुरस्कार किया था, कहा कि उनपर द्वार से प्रवेश कर जाओ, जबतुम उसमें प्रवेश कर जाओगे, तो निश्चय तुम प्रभुत्वशाली होगे तथा अल्लाह ही पर भरोसा करो, यदि तुम ईमान वाले हो।