Skip to main content

अल-आराफ़ आयत १८६ | Al-Aaraf 7:186

Whoever
مَن
जिसे
(is) let go astray
يُضْلِلِ
भटका देता है
(by) Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
then (there is) no
فَلَا
पस नहीं
guide
هَادِىَ
कोई हिदायत देने वाला
for him
لَهُۥۚ
उसे
And He leaves them
وَيَذَرُهُمْ
और वो छोड़ देता है उन्हें
in
فِى
उनकी सरकशी में
their transgression
طُغْيَٰنِهِمْ
उनकी सरकशी में
wandering blindly
يَعْمَهُونَ
वो सरगरदाँ फिरते हैं

Man yudlili Allahu fala hadiya lahu wayatharuhum fee tughyanihim ya'mahoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जिसे अल्लाह मार्ग से वंचित रखे उसके लिए कोई मार्गदर्शक नहीं। वह तो तो उन्हें उनकी सरकशी ही में भटकता हुआ छोड़ रहा है

English Sahih:

Whoever Allah sends astray – there is no guide for him. And He leaves them in their transgression, wandering blindly.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जिसे ख़ुदा गुमराही में छोड़ दे फिर उसका कोई राहबर नहीं और उन्हीं की सरकशी (व शरारत) में छोड़ देगा कि सरगरदॉ रहें

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जिसे अल्लाह कुपथ कर दे, उसका कोई पथपर्दर्शक नहीं और उन्हें उनके कुकर्मों में बहकते हुए छोड़ देता है।