Skip to main content
bismillah
لِإِيلَٰفِ
मानूस करने के लिए
قُرَيْشٍ
क़ुरैश को

Lieelafi qurayshin

कितना है क़ुरैश को लगाए और परचाए रखना,

Tafseer (तफ़सीर )
إِۦلَٰفِهِمْ
मानूस करना उन्हें
رِحْلَةَ
सफ़र से
ٱلشِّتَآءِ
सर्दी के
وَٱلصَّيْفِ
और गर्मा के

Eelafihim rihlata alshshitai waalssayfi

लगाए और परचाए रखना उन्हें जाड़े और गर्मी की यात्रा से

Tafseer (तफ़सीर )
فَلْيَعْبُدُوا۟
पस चाहिए कि वो इबादत करें
رَبَّ
रब की
هَٰذَا
उस
ٱلْبَيْتِ
घर के

Falya'budoo rabba hatha albayti

अतः उन्हें चाहिए कि इस घर (काबा) के रब की बन्दगी करे,

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلَّذِىٓ
जिसने
أَطْعَمَهُم
खिलाया उन्हें
مِّن
भूख में
جُوعٍ
भूख में
وَءَامَنَهُم
और उसने अमन दिया उन्हें
مِّنْ
ख़ौफ़ से
خَوْفٍۭ
ख़ौफ़ से

Allathee at'amahum min joo'in waamanahum min khawfin

जिसने उन्हें खिलाकर भूख से बचाया और निश्चिन्तता प्रदान करके भय से बचाया

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
क़ुरइश
القرآن الكريم:قريش
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Quraisy
सूरा:106
कुल आयत:4
कुल शब्द:17
कुल वर्ण:73
रुकु:1
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:29
से शुरू आयत:6193