Skip to main content
bismillah
وَٱلتِّينِ
क़सम है इनजीर की
وَٱلزَّيْتُونِ
और ज़ैतून की

Waaltteeni waalzzaytooni

साक्षी है तीन और ज़ैतून

Tafseer (तफ़सीर )
وَطُورِ
और तूरे सीना की
سِينِينَ
और तूरे सीना की

Watoori seeneena

और तूर सीनीन,

Tafseer (तफ़सीर )
وَهَٰذَا
और इस
ٱلْبَلَدِ
शहर की
ٱلْأَمِينِ
अमन वाले की

Wahatha albaladi alameeni

और यह शान्तिपूर्ण भूमि (मक्का)

Tafseer (तफ़सीर )
لَقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
خَلَقْنَا
पैदा किया हमने
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान को
فِىٓ
बेहतरीन साख़्त में
أَحْسَنِ
बेहतरीन साख़्त में
تَقْوِيمٍ
बेहतरीन साख़्त में

Laqad khalaqna alinsana fee ahsani taqweemin

निस्संदेह हमने मनुष्य को सर्वोत्तम संरचना के साथ पैदा किया

Tafseer (तफ़सीर )
ثُمَّ
फिर
رَدَدْنَٰهُ
लौटा दिया हमने उसे
أَسْفَلَ
सबसे ज़्यादा निचला
سَٰفِلِينَ
निचलों से

Thumma radadnahu asfala safileena

फिर हमने उसे निकृष्टतम दशा की ओर लौटा दिया, जबकि वह स्वयं गिरनेवाला बना

Tafseer (तफ़सीर )
إِلَّا
सिवाए
ٱلَّذِينَ
उनके जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
وَعَمِلُوا۟
और उन्होंने असम किए
ٱلصَّٰلِحَٰتِ
नेक
فَلَهُمْ
तो उनके लिए
أَجْرٌ
अजर है
غَيْرُ
ना
مَمْنُونٍ
ख़त्म होने वाला

Illa allatheena amanoo wa'amiloo alssalihati falahum ajrun ghayru mamnoonin

सिवाय उन लोगों के जो ईमान लाए और जिन्होंने अच्छे कर्म किए, तो उनके लिए कभी न समाप्त होनेवाला बदला है

Tafseer (तफ़सीर )
فَمَا
तो क्या(आमादा करता है)
يُكَذِّبُكَ
झुठलाने पर तुझे
بَعْدُ
बाद उसके
بِٱلدِّينِ
बदले (के दिन) को

Fama yukaththibuka ba'du bialddeeni

अब इसके बाद क्या है, जो बदले के विषय में तुम्हें झुठलाए?

Tafseer (तफ़सीर )
أَلَيْسَ
क्या नहीं है
ٱللَّهُ
अल्लाह
بِأَحْكَمِ
बड़ा हाकिम
ٱلْحَٰكِمِينَ
सब हाकिमों से

Alaysa Allahu biahkami alhakimeena

क्या अल्लाह सब हाकिमों से बड़ा हाकिम नहीं हैं?

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अत-तिन
القرآن الكريم:التين
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):At-Tin
सूरा:95
कुल आयत:8
कुल शब्द:34
कुल वर्ण:150
रुकु:1
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:28
से शुरू आयत:6098