Skip to main content
bismillah
عَمَّ
किस चीज़ के बारे में
يَتَسَآءَلُونَ
वो आपस में सवाल कर रहे हैं

'amma yatasaaloona

किस चीज़ के विषय में वे आपस में पूछ-गच्छ कर रहे है?

Tafseer (तफ़सीर )
عَنِ
उस ख़बर के बारे में
ٱلنَّبَإِ
उस ख़बर के बारे में
ٱلْعَظِيمِ
जो बहुत बड़ी है

'ani alnnabai al'atheemi

उस बड़ी ख़बर के सम्बन्ध में,

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلَّذِى
वो जो
هُمْ
वो
فِيهِ
उसमें
مُخْتَلِفُونَ
इख़्तिलाफ़ करने वाले हैं

Allathee hum feehi mukhtalifoona

जिसमें वे मतभेद रखते है

Tafseer (तफ़सीर )
كَلَّا
हरगिज़ नहीं
سَيَعْلَمُونَ
अनक़रीब वो जान लोंगे

Kalla saya'lamoona

कदापि नहीं, शीघ्र ही वे जान लेंगे।

Tafseer (तफ़सीर )
ثُمَّ
फिर
كَلَّا
हरगिज़ नहीं
سَيَعْلَمُونَ
अनक़रीब वो जान लोंगे

Thumma kalla saya'lamoona

फिर कदापि नहीं, शीघ्र ही वे जान लेंगे।

Tafseer (तफ़सीर )
أَلَمْ
क्या नहीं
نَجْعَلِ
हमने बनाया
ٱلْأَرْضَ
ज़मीन को
مِهَٰدًا
बिछौना

Alam naj'ali alarda mihadan

क्या ऐसा नहीं है कि हमने धरती को बिछौना बनाया

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلْجِبَالَ
और पहाड़ों को
أَوْتَادًا
मेख़ें

Waaljibala awtadan

और पहाड़ों को मेख़े?

Tafseer (तफ़सीर )
وَخَلَقْنَٰكُمْ
और पैदा किया हमने तुम्हें
أَزْوَٰجًا
जोड़ा-जोड़ा

Wakhalaqnakum azwajan

और हमने तुम्हें जोड़-जोड़े पैदा किया,

Tafseer (तफ़सीर )
وَجَعَلْنَا
और बनाया हमने
نَوْمَكُمْ
तुम्हारी नींद को
سُبَاتًا
आराम का ज़रिया

Waja'alna nawmakum subatan

और तुम्हारी नींद को थकन दूर करनेवाली बनाया,

Tafseer (तफ़सीर )
وَجَعَلْنَا
और बनाया हमने
ٱلَّيْلَ
रात को
لِبَاسًا
लिबास

Waja'alna allayla libasan

रात को आवरण बनाया,

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-नबा
القرآن الكريم:النبإ
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):An-Naba'
सूरा:78
कुल आयत:40
कुल शब्द:173
कुल वर्ण:970
रुकु:2
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:80
से शुरू आयत:5672