Skip to main content
bismillah
وَٱلَّيْلِ
क़सम है रात की
إِذَا
जब
يَغْشَىٰ
वो छा जाए

Waallayli itha yaghsha

साक्षी है रात जबकि वह छा जाए,

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلنَّهَارِ
और दिन की
إِذَا
जब
تَجَلَّىٰ
वो रौशन हो

Waalnnahari itha tajalla

और दिन जबकि वह प्रकाशमान हो,

Tafseer (तफ़सीर )
وَمَا
और उसकी
خَلَقَ
जिसने पैदा किया
ٱلذَّكَرَ
नर
وَٱلْأُنثَىٰٓ
और मादा को

Wama khalaqa alththakara waalontha

और नर और मादा का पैदा करना,

Tafseer (तफ़सीर )
إِنَّ
बेशक
سَعْيَكُمْ
कोशिश तुम्हारी
لَشَتَّىٰ
अलबत्ता मुख़्तलिफ़ तरह की है

Inna sa'yakum lashatta

कि तुम्हारा प्रयास भिन्न-भिन्न है

Tafseer (तफ़सीर )
فَأَمَّا
तो रहा वो
مَنْ
जिसने
أَعْطَىٰ
दिया
وَٱتَّقَىٰ
और उसने तक़्वा किया

Faamma man a'ta waittaqa

तो जिस किसी ने दिया और डर रखा,

Tafseer (तफ़सीर )
وَصَدَّقَ
और तस्दीक़ की
بِٱلْحُسْنَىٰ
भलाई की

Wasaddaqa bialhusna

और अच्छी चीज़ की पुष्टि की,

Tafseer (तफ़सीर )
فَسَنُيَسِّرُهُۥ
पस अनक़रीब हम आसानी देंगे उसे
لِلْيُسْرَىٰ
आसान(रास्ते)की

Fasanuyassiruhu lilyusra

हम उस सहज ढंग से उस चीज का पात्र बना देंगे, जो सहज और मृदुल (सुख-साध्य) है

Tafseer (तफ़सीर )
وَأَمَّا
और रहा वो
مَنۢ
जिसने
بَخِلَ
बुख़्ल किया
وَٱسْتَغْنَىٰ
और उसने बेपरवाई बरती

Waamma man bakhila waistaghna

रहा वह व्यक्ति जिसने कंजूसी की और बेपरवाही बरती,

Tafseer (तफ़सीर )
وَكَذَّبَ
और उसने झुठलाया
بِٱلْحُسْنَىٰ
नेकी को

Wakaththaba bialhusna

और अच्छी चीज़ को झुठला दिया,

Tafseer (तफ़सीर )
فَسَنُيَسِّرُهُۥ
पस अनक़रीब हम आसानी देंगे उसे
لِلْعُسْرَىٰ
मुश्किल(रास्ते) की

Fasanuyassiruhu lil'usra

हम उसे सहज ढंग से उस चीज़ का पात्र बना देंगे, जो कठिन चीज़ (कष्ट-साध्य) है

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-लैल
القرآن الكريم:الليل
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Lail
सूरा:92
कुल आयत:21
कुल शब्द:71
कुल वर्ण:310
रुकु:1
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:9
से शुरू आयत:6058