Skip to main content
bismillah
سَبَّحَ
तस्बीह की है
لِلَّهِ
अल्लाह के लिए
مَا
हर उस चीज़ ने जो
فِى
आसमानों में
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में
وَٱلْأَرْضِۖ
और ज़मीन में है
وَهُوَ
और वो
ٱلْعَزِيزُ
बहुत ज़बरदस्त है
ٱلْحَكِيمُ
ख़ूब हिकमत वाला है

Sabbaha lillahi ma fee alssamawati waalardi wahuwa al'azeezu alhakeemu

अल्लाह की तसबीह की हर उस चीज़ ने जो आकाशों और धरती में है। वही प्रभुत्वशाली, तत्वशाली है

Tafseer (तफ़सीर )
لَهُۥ
उसी के लिए है
مُلْكُ
बादशाहत
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضِۖ
और ज़मीन की
يُحْىِۦ
वो ज़िन्दा करता है
وَيُمِيتُۖ
और वो मौत देता है
وَهُوَ
और वो
عَلَىٰ
ऊपर
كُلِّ
हर
شَىْءٍ
चीज़ के
قَدِيرٌ
ख़ूब क़ुदरत रखने वाला है

Lahu mulku alssamawati waalardi yuhyee wayumeetu wahuwa 'ala kulli shayin qadeerun

आकाशों और धरती की बादशाही उसी की है। वही जीवन प्रदान करता है और मृत्यु देता है, और उसे हर चीज़ की सामर्थ्य प्राप्त है

Tafseer (तफ़सीर )
هُوَ
वो ही
ٱلْأَوَّلُ
अव्वल है
وَٱلْءَاخِرُ
और आख़िर है
وَٱلظَّٰهِرُ
और ज़ाहिर है
وَٱلْبَاطِنُۖ
और बातिन है
وَهُوَ
और वो
بِكُلِّ
हर
شَىْءٍ
चीज़ को
عَلِيمٌ
ख़ूब जानने वाला है

Huwa alawwalu waalakhiru waalththahiru waalbatinu wahuwa bikulli shayin 'aleemun

वही आदि है और अन्त भी और वही व्यक्त है और अव्यक्त भी। और वह हर चीज़ को जानता है

Tafseer (तफ़सीर )
هُوَ
वो ही है
ٱلَّذِى
जिसने
خَلَقَ
पैदा किया
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضَ
और ज़मीन को
فِى
छ:
سِتَّةِ
छ:
أَيَّامٍ
दिनों मे
ثُمَّ
फिर
ٱسْتَوَىٰ
वो बुलन्द हुआ
عَلَى
अर्श पर
ٱلْعَرْشِۚ
अर्श पर
يَعْلَمُ
वो जानता है
مَا
जो कुछ
يَلِجُ
दाख़िल होता है
فِى
ज़मीन में
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
وَمَا
और जो कुछ
يَخْرُجُ
निकलता है
مِنْهَا
उससे
وَمَا
और जो कुछ
يَنزِلُ
उतरता है
مِنَ
आसमान से
ٱلسَّمَآءِ
आसमान से
وَمَا
और जो कुछ
يَعْرُجُ
चढ़ता है
فِيهَاۖ
उसमें
وَهُوَ
और वो
مَعَكُمْ
तुम्हारे साथ है
أَيْنَ
जहाँ कहीं
مَا
जहाँ कहीं
كُنتُمْۚ
हो तुम
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
بِمَا
उसे जो
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
بَصِيرٌ
ख़ूब देखने वाला है

Huwa allathee khalaqa alssamawati waalarda fee sittati ayyamin thumma istawa 'ala al'arshi ya'lamu ma yaliju fee alardi wama yakhruju minha wama yanzilu mina alssamai wama ya'ruju feeha wahuwa ma'akum ayna ma kuntum waAllahu bima ta'maloona baseerun

वही है जिसने आकाशों और धरती को छह दिनों में पैदा किया; फिर सिंहासन पर विराजमान हुआ। वह जानता है जो कुछ धरती में प्रवेश करता है और जो कुछ उससे निकलता है और जो कुछ आकाश से उतरता है और जो कुछ उसमें चढ़ता है। और तुम जहाँ कहीं भी हो, वह तुम्हारे साथ है। और अल्लाह देखता है जो कुछ तुम करते हो

Tafseer (तफ़सीर )
لَّهُۥ
उसी के लिए है
مُلْكُ
बादशाहत
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضِۚ
और ज़मीन की
وَإِلَى
और अल्लाह ही की तरफ़
ٱللَّهِ
और अल्लाह ही की तरफ़
تُرْجَعُ
लौटाए जाते हैं
ٱلْأُمُورُ
सब काम

Lahu mulku alssamawati waalardi waila Allahi turja'u alomooru

आकाशों और धरती की बादशाही उसी की है और अल्लाह ही की है ओर सारे मामले पलटते है

Tafseer (तफ़सीर )
يُولِجُ
वो दाख़िल करता है
ٱلَّيْلَ
रात को
فِى
दिन में
ٱلنَّهَارِ
दिन में
وَيُولِجُ
और वो दाख़िल करता है
ٱلنَّهَارَ
दिन को
فِى
रात में
ٱلَّيْلِۚ
रात में
وَهُوَ
और वो
عَلِيمٌۢ
ख़ूब जानने वाला है
بِذَاتِ
सीनों वाले (भेद)
ٱلصُّدُورِ
सीनों वाले (भेद)

Yooliju allayla fee alnnahari wayooliju alnnahara fee allayi wahuwa 'aleemun bithati alssudoori

वह रात को दिन में प्रविष्ट कराता है और दिन को रात में प्रविष्ट कराता है। वह सीनों में छिपी बात तक को जानता है

Tafseer (तफ़सीर )
ءَامِنُوا۟
ईमान लाओ
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
وَرَسُولِهِۦ
और उसके रसूल पर
وَأَنفِقُوا۟
और ख़र्च करो
مِمَّا
उससे जो
جَعَلَكُم
उसने बनाया तुम्हें
مُّسْتَخْلَفِينَ
जानशीन
فِيهِۖ
उस(माल) में
فَٱلَّذِينَ
तो वो लोग जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
مِنكُمْ
तुम में से
وَأَنفَقُوا۟
और उन्होंने ख़र्च किया
لَهُمْ
उनके लिए
أَجْرٌ
अजर है
كَبِيرٌ
बहुत बड़ा

Aminoo biAllahi warasoolihi waanfiqoo mimma ja'alakum mustakhlafeena feehi faallatheena amanoo minkum waanfaqoo lahum ajrun kabeerun

ईमान लाओ अल्लाह और उसके रसूल पर और उसमें से ख़र्च करो जिसका उसने तु्म्हें अधिकारी बनाया है। तो तुममें से जो लोग ईमान लाए और उन्होंने ख़र्च किया, उसने लिए बड़ा प्रतिदान है

Tafseer (तफ़सीर )
وَمَا
और क्या है
لَكُمْ
तुम्हें
لَا
नहीं तुम ईमान लाते
تُؤْمِنُونَ
नहीं तुम ईमान लाते
بِٱللَّهِۙ
अल्लाह पर
وَٱلرَّسُولُ
जब कि रसूल
يَدْعُوكُمْ
वो दावत देता है तुम्हें
لِتُؤْمِنُوا۟
कि तुम ईमान लाओ
بِرَبِّكُمْ
अपने रब पर
وَقَدْ
हालाँकि तहक़ीक़
أَخَذَ
उसने लिया है
مِيثَٰقَكُمْ
पुख़्ता अहद तुमसे
إِن
अगर
كُنتُم
हो तुम
مُّؤْمِنِينَ
ईमान लाने वाले

Wama lakum la tuminoona biAllahi waalrrasoolu yad'ookum lituminoo birabbikum waqad akhatha meethaqakum in kuntum mumineena

तुम्हें क्या हो गया है कि तुम अल्लाह पर ईमान नहीं लाते; जबकि रसूल तुम्हें निमंत्रण दे रहा है कि तुम अपने रब पर ईमान लाओ और वह तुमसे दृढ़ वचन भी ले चुका है, यदि तुम मोमिन हो

Tafseer (तफ़सीर )
هُوَ
वो ही है
ٱلَّذِى
जो
يُنَزِّلُ
नाज़िल करता है
عَلَىٰ
अपने बन्दे पर
عَبْدِهِۦٓ
अपने बन्दे पर
ءَايَٰتٍۭ
आयात
بَيِّنَٰتٍ
वाज़ेह
لِّيُخْرِجَكُم
ताकि वो निकाले तुम्हें
مِّنَ
अंधेरों से
ٱلظُّلُمَٰتِ
अंधेरों से
إِلَى
तरफ़ रौशनी के
ٱلنُّورِۚ
तरफ़ रौशनी के
وَإِنَّ
और बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
بِكُمْ
तुम पर
لَرَءُوفٌ
अलबत्ता बहुत शफ़्क़त करने वाला है
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

Huwa allathee yunazzilu 'ala 'abdihi ayatin bayyinatin liyukhrijakum mina alththulumati ila alnnoori wainna Allaha bikum laraoofun raheemun

वही है जो अपने बन्दों पर स्पष्ट आयतें उतार रहा है, ताकि वह तुम्हें अंधकारों से प्रकाश की ओर ले आए। और वास्तविकता यह है कि अल्लाह तुमपर अत्यन्त करुणामय, दयावान है

Tafseer (तफ़सीर )
وَمَا
और क्या है
لَكُمْ
तुम्हें
أَلَّا
कि नहीं
تُنفِقُوا۟
तुम ख़र्च करते
فِى
अल्लाह के रास्ते में
سَبِيلِ
अल्लाह के रास्ते में
ٱللَّهِ
अल्लाह के रास्ते में
وَلِلَّهِ
और अल्लाह ही के लिए है
مِيرَٰثُ
मीरास
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضِۚ
और ज़मीन की
لَا
नहीं
يَسْتَوِى
बराबर हो सकता
مِنكُم
तुम में से
مَّنْ
वो जिसने
أَنفَقَ
ख़र्च किया
مِن
पहले
قَبْلِ
पहले
ٱلْفَتْحِ
फ़तह के
وَقَٰتَلَۚ
और जंग की
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
أَعْظَمُ
ज़्यादा बड़े
دَرَجَةً
दर्जे में
مِّنَ
उनसे जिन्होंने
ٱلَّذِينَ
उनसे जिन्होंने
أَنفَقُوا۟
ख़र्च किया
مِنۢ
उसके बाद
بَعْدُ
उसके बाद
وَقَٰتَلُوا۟ۚ
और उन्होंने जंग की
وَكُلًّا
और हर एक से
وَعَدَ
वादा किया
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
ٱلْحُسْنَىٰۚ
भलाई का
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
بِمَا
उसकी जो
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
خَبِيرٌ
ख़ूब ख़बर रखने वाला है

Wama lakum alla tunfiqoo fee sabeeli Allahi walillahi meerathu alssamawati waalardi la yastawee minkum man anfaqa min qabli alfathi waqatala olaika a'thamu darajatan mina allatheena anfaqoo min ba'du waqataloo wakullan wa'ada Allahu alhusna waAllahu bima ta'maloona khabeerun

और तुम्हें क्यो हुआ है कि तुम अल्लाह के मार्ग में ख़र्च न करो, हालाँकि आकाशों और धरती की विरासत अल्लाह ही के लिए है? तुममें से जिन लोगों ने विजय से पूर्व ख़र्च किया और लड़े वे परस्पर एक-दूसरे के समान नहीं है। वे तो दरजे में उनसे बढ़कर है जिन्होंने बाद में ख़र्च किया और लड़े। यद्यपि अल्लाह ने प्रत्येक से अच्छा वादा किया है। अल्लाह उसकी ख़बर रखता है, जो कुछ तुम करते हो

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-हदीद
القرآن الكريم:الحديد
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Hadid
सूरा:57
कुल आयत:29
कुल शब्द:544
कुल वर्ण:2476
रुकु:4
वर्गीकरण:मदीनन सूरा
Revelation Order:94
से शुरू आयत:5075