Skip to main content
bismillah
لَآ
नहीं मैं क़सम खाता हूँ
أُقْسِمُ
नहीं मैं क़सम खाता हूँ
بِهَٰذَا
इस शहर की
ٱلْبَلَدِ
इस शहर की

La oqsimu bihatha albaladi

सुनो! मैं क़सम खाता हूँ इस नगर (मक्का) की -

Tafseer (तफ़सीर )
وَأَنتَ
और आप
حِلٌّۢ
मुक़ीम हैं
بِهَٰذَا
इस शहर में
ٱلْبَلَدِ
इस शहर में

Waanta hillun bihatha albaladi

हाल यह है कि तुम इसी नगर में रह रहे हो -

Tafseer (तफ़सीर )
وَوَالِدٍ
क़सम है वालिद की
وَمَا
और जिसे
وَلَدَ
उसने जन्म दिया

Wawalidin wama walada

और बाप और उसकी सन्तान की,

Tafseer (तफ़सीर )
لَقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
خَلَقْنَا
पैदा किया हमने
ٱلْإِنسَٰنَ
इन्सान को
فِى
मशक़्क़त में
كَبَدٍ
मशक़्क़त में

Laqad khalaqna alinsana fee kabadin

निस्संदेह हमने मनुष्य को पूर्ण मशक़्क़त (अनुकूलता और सन्तुलन) के साथ पैदा किया

Tafseer (तफ़सीर )
أَيَحْسَبُ
क्या वो समझता है
أَن
कि
لَّن
हरगिज़ नहीं
يَقْدِرَ
क़ादिर होगा
عَلَيْهِ
उस पर
أَحَدٌ
कोई एक

Ayahsabu an lan yaqdira 'alayhi ahadun

क्या वह समझता है कि उसपर किसी का बस न चलेगा?

Tafseer (तफ़सीर )
يَقُولُ
वो कहता है
أَهْلَكْتُ
हलाक कर दिया मैं ने
مَالًا
माल
لُّبَدًا
ढेरों

Yaqoolu ahlaktu malan lubadan

कहता है कि 'मैंने ढेरो माल उड़ा दिया।'

Tafseer (तफ़सीर )
أَيَحْسَبُ
क्या वो समझता है
أَن
कि
لَّمْ
नहीं
يَرَهُۥٓ
देखा उसे
أَحَدٌ
किसी एक ने

Ayahsabu an lam yarahu ahadun

क्या वह समझता है कि किसी ने उसे देखा नहीं?

Tafseer (तफ़सीर )
أَلَمْ
क्या नहीं
نَجْعَل
हमने बनाईं
لَّهُۥ
उसके लिए
عَيْنَيْنِ
दो आँखें

Alam naj'al lahu 'aynayni

क्या हमने उसे नहीं दी दो आँखें,

Tafseer (तफ़सीर )
وَلِسَانًا
और एक ज़बान
وَشَفَتَيْنِ
और दो होंट

Walisanan washafatayni

और एक ज़बान और दो होंठ?

Tafseer (तफ़सीर )
وَهَدَيْنَٰهُ
और दिखाए हमने उसे
ٱلنَّجْدَيْنِ
दो रास्ते

Wahadaynahu alnnajdayni

और क्या ऐसा नहीं है कि हमने दिखाई उसे दो ऊँचाइयाँ?

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-बलद
القرآن الكريم:البلد
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Balad
सूरा:90
कुल आयत:20
कुल शब्द:82
कुल वर्ण:320
रुकु:1
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:35
से शुरू आयत:6023