Skip to main content
bismillah
ٱقْتَرَبَتِ
क़रीब आ गई
ٱلسَّاعَةُ
क़यामत
وَٱنشَقَّ
और शक़ हो गया
ٱلْقَمَرُ
चाँद

Iqtarabati alssa'atu wainshaqqa alqamaru

वह घड़ी निकट और लगी और चाँद फट गया;

Tafseer (तफ़सीर )
وَإِن
और अगर
يَرَوْا۟
वो देख लें
ءَايَةً
कोई भी निशानी
يُعْرِضُوا۟
वो मुँह मोड़ जाते हैं
وَيَقُولُوا۟
और वो कहते हैं
سِحْرٌ
एक जादू है
مُّسْتَمِرٌّ
जारी

Wain yaraw ayatan yu'ridoo wayaqooloo sihrun mustamirrun

किन्तु हाल यह है कि यदि वे कोई निशानी देख भी लें तो टाल जाएँगे और कहेंगे, 'यह तो जादू है, पहले से चला आ रहा है!'

Tafseer (तफ़सीर )
وَكَذَّبُوا۟
और उन्होंने झुठलाया
وَٱتَّبَعُوٓا۟
और उन्होंने पैरवी की
أَهْوَآءَهُمْۚ
अपनी ख़्वाहिशात की
وَكُلُّ
और हर
أَمْرٍ
काम का
مُّسْتَقِرٌّ
वक़्त मुक़र्रर है

Wakaththaboo waittaba'oo ahwaahum wakullu amrin mustaqirrun

उन्होंने झुठलाया और अपनी इच्छाओं का अनुसरण किया; किन्तु हर मामले के लिए एक नियत अवधि है।

Tafseer (तफ़सीर )
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
جَآءَهُم
आईं उनके पास
مِّنَ
कई ख़बरें
ٱلْأَنۢبَآءِ
कई ख़बरें
مَا
जिनमें
فِيهِ
जिनमें
مُزْدَجَرٌ
काफ़ी तंबीह है

Walaqad jaahum mina alanbai ma feehi muzdajarun

उनके पास अतीत को ऐसी खबरें आ चुकी है, जिनमें ताड़ना अर्थात पूर्णतः तत्वदर्शीता है।

Tafseer (तफ़सीर )
حِكْمَةٌۢ
हिकमत है
بَٰلِغَةٌۖ
कामिल
فَمَا
तो ना
تُغْنِ
काम आए
ٱلنُّذُرُ
डरावे

Hikmatun balighatun fama tughnee alnnuthuru

किन्तु चेतावनियाँ उनके कुछ काम नहीं आ रही है! -

Tafseer (तफ़सीर )
فَتَوَلَّ
तो मुँह फेर लीजिए
عَنْهُمْۘ
उनसे
يَوْمَ
जिस दिन
يَدْعُ
पुकारेगा
ٱلدَّاعِ
पुकारने वाला
إِلَىٰ
तरफ़ एक चीज़
شَىْءٍ
तरफ़ एक चीज़
نُّكُرٍ
नागवार के

Fatawalla 'anhum yawma yad'u aldda'i ila shayin nukurin

अतः उनसे रुख़ फेर लो - जिस दिन पुकारनेवाला एक अत्यन्त अप्रिय चीज़ की ओर पुकारेगा;

Tafseer (तफ़सीर )
خُشَّعًا
झुकी हुई होंगी
أَبْصَٰرُهُمْ
निगाहें उनकी
يَخْرُجُونَ
वो निकलेंगे
مِنَ
क़ब्रों से
ٱلْأَجْدَاثِ
क़ब्रों से
كَأَنَّهُمْ
गोया कि वो
جَرَادٌ
टिड्डियाँ हैं
مُّنتَشِرٌ
फैली हुईं

Khushsha'an absaruhum yakhrujoona mina alajdathi kaannahum jaradun muntashirun

वे अपनी झुकी हुई निगाहों के साथ अपनी क्रबों से निकल रहे होंगे, मानो वे बिखरी हुई टिड्डियाँ है;

Tafseer (तफ़सीर )
مُّهْطِعِينَ
दौड़ते होंगे
إِلَى
तरफ़ पुकारने वाले के
ٱلدَّاعِۖ
तरफ़ पुकारने वाले के
يَقُولُ
कहेंगे
ٱلْكَٰفِرُونَ
काफ़िर
هَٰذَا
ये
يَوْمٌ
दिन है
عَسِرٌ
बड़ा सख़्त

Muhti'eena ila aldda'i yaqoolu alkafiroona hatha yawmun 'asirun

दौड़ पड़ने को पुकारनेवाले की ओर। इनकार करनेवाले कहेंगे, 'यह तो एक कठिन दिन है!'

Tafseer (तफ़सीर )
كَذَّبَتْ
झुठलाया
قَبْلَهُمْ
उनसे पहले
قَوْمُ
क़ौमे
نُوحٍ
नूह ने
فَكَذَّبُوا۟
तो उन्होंने झुठलाया
عَبْدَنَا
हमारे बन्दे को
وَقَالُوا۟
और उन्होंने कहा
مَجْنُونٌ
मजनून है
وَٱزْدُجِرَ
और वो झिड़क दिया गया

Kaththabat qablahum qawmu noohin fakaththaboo 'abdana waqaloo majnoonun waizdujira

उनसे पहले नूह की क़ौम ने भी झुठलाया। उन्होंने हमारे बन्दे को झूठा ठहराया और कहा, 'यह तो दीवाना है!' और वह बुरी तरह झिड़का गया

Tafseer (तफ़सीर )
فَدَعَا
तो उसने पुकारा
رَبَّهُۥٓ
अपने रब को
أَنِّى
बेशक मैं
مَغْلُوبٌ
मग़लूब हूँ
فَٱنتَصِرْ
पस तू इन्तिक़ाम ले

Fada'a rabbahu annee maghloobun faintasir

अन्त में उसने अपने रब को पुकारा कि 'मैं दबा हुआ हूँ। अब तू बदला ले।'

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-कमर
القرآن الكريم:القمر
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Qamar
सूरा:54
कुल आयत:55
कुल शब्द:342
कुल वर्ण:1423
रुकु:3
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:37
से शुरू आयत:4846